इंटीरियर डिजाइनर (Interior Designer) कैसे बनें ?

Interior Design Hindi, Interior Designer in Hindi, How to become interior designer in India, Interior Decorator/Designer kaise bane in Hindi

यदि आप घर या कमरे या किसी जगह को सजाने संवारने के काम के बारे में उत्साहित है तो आप प्रोफेशनल इंटीरियर डिज़ाइनर Interior Designer बन सकते है जिसमे आपको ग्राहकों की ज़रूरतो को ध्यान में रखते हुए उनके बजट के अनुसार उनके घर या दुकान या कार्यालय के इंटीरियर को सजाने का काम करना होता है। आख़िरकार Interior designer kaise bane इस पोस्ट में जानेंगे। Interior Designing के क्षेत्र में अपना कॅरियर बनाने के लिए आपको Interior Design के बारे में पूरी जानकारी हासिल करना बहुत ज़रूरी है जो आपको यहा मिलने वाली है।

Interior Designer Kaise Bane?

किसी भी दूसरे क्षेत्र में कॅरियर बनाने की तरह इंटीरियर डिज़ाइन Interior Design के क्षेत्र में एक सफल प्रोफेशनल डिज़ाइनर Designer बनने के लिए भी स्नातक की डिग्री आमतौर पर बहुत ज़रूरी है।

यदि आप इंटीरियर डिज़ाइन Interior Design में स्नातक नही हो तो Interior designer kaise bane? यदि आप किसी दूसरे क्षेत्र में स्नातक हो तो भी आप इंटीरियर डिज़ाइनर Interior Designer बन सकते है इसके लिए आपको इंटीरियर डिज़ाइनर Interior Designer के क्षेत्र में अच्छा अनुभव होना बहुत ज़रूरी है।

इसके लिए आपको किसी बेहतर इंटीरियर डिज़ाइनर Interior Designer के साथ काम करना पड़ेगा चाहे साइट सुपरवाइज़र की तोर पर ही सही, जैसे मैंने किया।

मैंने इंजिनियरिंग में एलेक्ट्रॉनिक्स & कम्यूनिकेशन स्ट्रीम से स्नातक पूरा किया है, जिसमे मुझे बिल्कुल भी दिलचस्पी नही थी, मेरा स्नातक की पढ़ाई पूरी होने के पश्चात, मैने एक इंटीरियर डिज़ाइनर के साथ एक साइट सुपरवाइज़र के तोर पर जॉब जाय्न किया व साथ-साथ में AutoCad की कक्षाएं लेता रहा क्योकि ड्रॉयिंग (Drawing) करने के लिए AutoCad का कौशल या स्किल होना बहुत ज़रूरी है,

और तकरीबन दो साल तक एक साइट सुपरवाइज़र की काम करने के बाद, मैने इंटीरियर डिज़ाइन के प्रॉजेक्ट/ काम लेना शुरू कर दिया, आज इंटीरियर डिज़ाइनिंग के काम में एक इंटीरियर डिज़ाइनर के रूप में लगातार काम कर रहा हू और इस व्यवसाय में मुझे बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

जैसा की आप जानते हो कि आज बिल्डिंग निर्माण व्यवसाय कितना बढ़ रहा है तो जाहिर सी बात है इसके साथ में इंटीरियर डिज़ाइन Interior Design के व्यवसाय को भी बहुत बढ़ावा मिला है, इसके साथ ही इस क्षेत्र में कॉंपिटेशन भी बहुत बढ़ गया है जैसा कि हर दूसरे व्यवसाय में होता है।

यह बहुत ज़रूरी है कि आपको इस काम को सीखने में दिलचस्पी होनी चाहिए, आपको ड्रॉयिंग के साथ साथ आपको अपनी कम्यूनिकेशन स्किल और बिज़्नेस करने की स्किल को भी बेहतर करना होगा, जो इस व्यवसाय क्षेत्र में हमेशा काम करते रहने के लिए बहुत आवश्यक होता है।

Interior Designing में Diploma और Degree दोनों स्तर के कोर्स मौजूद है जिनको पूरा करने का समय हर कोर्स के अनुसार अलग-अलग है और आप अपनी 12वी कक्षा (Higher Secondary) पास करने के बाद इंटीरियर डिज़ाइनिंग के कोर्स में प्रवेश ले सकते है।

इंटीरियर डिज़ाइन के अंतर्गत चलाए जाने वाले कोर्स -

  • इंटीरियर डिजाइन में स्नातक [Bachelor in Interior Design] - 5 yr

  • इंटीरियर वास्तुकला और डिजाइन [B.A. Honors Interior Architecture and Design] - 4 yr

  • डिजाइनर फर्नीचर और इंटीरियर में स्नातक [Bachelor in Interior Space and Furniture Design] - 4 yr

  • डिजाइन स्नातक [Bachelor of Design] - 4 yr

  • इन्टीरियर स्पेस एंड फर्नीचर डिजाइन [Bachelor in Interior Space and Furniture Design] - 4 yr

  • फर्नीचर और विशेष डिजाइन [Undergraduate Professional Diploma Program of Furniture and Special Design] - 4 yr

  • बीएससी इंटीरियर डिजाइनिंग [Diploma - B.Sc. Interior Designing] - 3 yr

इंटीरियर डिज़ाइन का कोर्स करने के लिए, आप इनमे प्रवेश ले सकते है। इंटीरियर डिज़ाइनर का कोर्स पूरा करने लेने के बाद आप एक इंटीरियर डिज़ाइन (Interior Design) असिस्टेंट के रूप में काम करना चालू कर दे, असिस्टेंट का काम करते हुई आप इस क्षेत्र में अपने कोशल या स्किल को बहुत अच्छा कर पाएँगे जिससे आप सिख पाएँगे कि कैसे किसी प्रॉजेक्ट को शुरू से अंत तक पूरा करना है जो कि आपके अच्छे कॅरियर के लिए बहुत ज़रूरी है।

जब आप इंटीरियर डिज़ाइनिंग Interior Designing में कुशल हो जाए तो किसी त्तरह अपना पहला Interior प्रॉजेक्ट या काम हासिल करना है और उसमे आपको अपनी क्रियेटिविटी और अनुभव का उपयोग करते हुए ऐसा काम करना है जिससे आपका ग्राहक आपके काम से खुश हो जाए जो आपके कॅरियर को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा।

No comments